खुशदीप सहगल
बंदा 1994 से पेन-कम्प्यूटर तोड़ रहा है

कुर्सी पे बैठा एक कुत्ता

Posted on
  • by
  • Khushdeep Sehgal
  • in
  • लेबल: , , ,
  • मक्खन जी को शेरो-शायरी की एबीसी नहीं पता लेकिन एक बार जिद पकड़ ली कि शहर में हो रहा मुशायरा हर हाल में सुनेंगे...बड़ा समझाया कि तुम्हारी सोच का दायरा बड़ा है...ये मुशायरे-वुशायरे उस सोच में फिट नहीं बैठते...लेकिन मक्खन ने सोच लिया तो सोच लिया...नो इफ़, नो बट...ओनली जट..पहुंच गए जी मुशायरा सुनने...मुशायरे में जैसा होता है नामी-गिरामी शायरों के कलाम से पहले लोकल स्वयंभू शायरों को माइक पर मुंह साफ करने का मौका दिया जा रहा था...ऐसे ही एक फन्ने मेरठी ने मोर्चा संभाला और बोलना शुरू किया...कुर्सी पे बैठा एक कुत्ता....पूरे हॉल में खामोशी लेकिन अपने मक्खन जी ने दाद दी...वाह, सुभानअल्ला...आस-प़ड़ोस वालों ने ऐसे देखा जैसे कोई एलियन आसमां से उनके बीच टपक पड़ा हो...उधर फन्ने मेरठी ने अगली लाइन पढ़ी ...कुर्सी पे बैठा कुत्ता, उसके ऊपर एक और कुत्ता...हाल में अब भी खामोशी थी लेकिन मक्खन जी अपनी सीट से खड़े हो चुके थे और कहने लगे...भई वाह, वाह, वाह क्या बात है, बहुत खूब..अब तक आस-पास वालों ने मक्खन जी को हिराकत की नज़रों से देखना शुरू कर दिया था...फन्ने मेरठी आगे शुरू...कुर्सी पे कुत्ता, उसके ऊपर कुत्ता, उसके ऊपर एक और कुत्ता...ये सुनते ही मक्खनजी तो अपनी सीट पर ही खड़े हो गए और उछलते हुए तब तक वाह-वाह करते रहे जब तक साथ वालों ने हाथ खींचकर नीचे नहीं गिरा दिया...फन्ने मेरठी का कलाम जारी था...कुर्सी पे कुत्ता, उस पर कुत्ता, कुत्ते पर कुत्ता, उसके ऊपर एक और कुत्ता...अब तक तो मक्खन जी ने फर्श पर लोट लगाना शुरू कर दिया था...इतनी मस्ती कि मुंह से वाह के शब्द बाहर आने भी मुश्किल हो रहे थे......एक जनाब से आखिर रहा नहीं गया...उन्होंने मक्खन से कड़क अंदाज में कहा... ये किस बात की वाह-वाह लगा रखी है... हैं..मियां ज़रा भी शऊर नहीं है क्या...इतने वाहिआत शेर पर खुद को हलकान कर रखा है...मक्खन ने उसी अंदाज में जवाब दिया...ओए...तू शेर को मार गोली...बस कुत्तों का बैलेंस देख, बैलेंस ,...
     

    8 टिप्पणियाँ:

    vandan gupta ने कहा…

    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (10/2/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    Sushil Bakliwal ने कहा…

    वाह... वाह... वाह...

    Shah Nawaz ने कहा…

    वाह! वाह! क्या बैलेंस है... :-) :-) :-)

    palash ने कहा…

    वाकई बैलेंस तो कमाल का बनाया कुत्तों ने , भला शेर क्या जाने ऐसा बैलेंस बनाना ।
    बहुत खूब कही

    Udan Tashtari ने कहा…

    वाह!! क्या बैलेंस है!!

    अजित गुप्ता का कोना ने कहा…

    बस इसी बेंलेस को देख रहे हैं जी।

    किलर झपाटा ने कहा…

    हा हा बहुत मजेदार खुश्शू भैया।

    पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

    "ओए...तू शेर को मार गोली...बस कुत्तों का बैलेंस देख, बैलेंस ,..."

    कौन सा वाला बैलेंस, स्विस बैंक वाला या फिर जर्मनी वाला ?

    मैं वैसे यह सोच इधर घूमने चला आया था कि किसी सिंहासन नुमा कुर्सी पर बैठे किसी कुत्ते की तस्वीर टंगी होगी आपके ब्लॉग पर :)

    एक टिप्पणी भेजें

     
    Copyright © 2009. स्लॉग ओवर All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Humour Shoppe