खुशदीप सहगल
बंदा 1994 से पेन-कम्प्यूटर तोड़ रहा है

दिमाग से जुड़ा एक universal truth...Khushdeep

Posted on
  • by
  • Unknown
  • in
  • लेबल: , ,
  • मक्खन मार्का लोगों में एक बात बड़ी अच्छी होती है कि अपने दिमाग का बहुत नाप तोल कर इस्तेमाल करते हैं..कोशिश यही रहती है कि दिमाग को कम से कम खर्च किया जाए...क्योंकि जल्दी ख़त्म हो गया तो किसके दरवाज़े पर जाकर मांगेंगे...यह तो रही मक्खन जैसे genius लोगों की बात..लेकिन दिमाग से जुड़ा एक universal truth भी है, जो दुनिया के हर मर्द पर लागू होता है...


    दिमाग शरीर का सबसे अहम हिस्सा होता है...

    24 घंटे, 365 दिन ये एक्टिव रहता है...

    इंसान के पैदा होते ही ये काम करना शुरू कर देता है...

    और...

    इंसान की शादी होने तक ये काम करता रहता है...

    6 टिप्पणियाँ:

    सुशील बाकलीवाल ने कहा…

    शादी के बाद...?

    Patali-The-Village ने कहा…

    काम तो शादी के बाद भी करता है पर अपनी मर्जी से नहीं|

    ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

    बहुत बढिया जानकारी।

    ............
    ब्‍लॉगिंग को प्रोत्‍साहन चाहिए?
    लिंग से पत्‍थर उठाने का हठयोग।

    दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

    इन्सान से मतलब? आदमी या औरत?

    Bhagat Singh Panthi ने कहा…

    तभी इतने दिन से मैं सोच रहा हूँ की आखिर लोग मुझ से क्यों कहते है की तुम शादी के बाद बदल से गये हो

    Udan Tashtari ने कहा…

    आदमी के लिए ही लागू होता है...

    एक टिप्पणी भेजें

     
    Copyright © 2009. स्लॉग ओवर All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Humour Shoppe