खुशदीप सहगल
बंदा 1994 से पेन-कम्प्यूटर तोड़ रहा है

गज़ल और लेक्चर का अंतर...खुशदीप

Posted on
  • by
  • Khushdeep Sehgal
  • in
  • लेबल: , , , ,
  • एक पति के लिए गज़ल और लेक्चर का अंतर...



    ...............................................................................

    ...................................................................................

    ....................................................................................

    ...................................................................................

    ..................................................................................


    जब दूसरों की पत्नियां कुछ भी बोलें तो उनका हर शब्द गज़ल होता है...


    जब अपनी पत्नी बोले तो वो लेक्चर होता है...

    ----------------------------------------------------------------

    important praise for husband....

    4 टिप्पणियाँ:

    अजय कुमार झा ने कहा…

    हा हा हा हा हम तो घर दफ़्तर दुन्नो जगह लेक्चर ही सुनते हैं लेक्चरार हमरी हमरे साथे न हैं उफ़्फ़ उफ़्फ़ उफ़्फ़ उफ़्फ़ ...ये लेक्चर

    M VERMA ने कहा…

    भोगा गया यथार्थ बयान कर गये लगता है

    Sushil Bakliwal ने कहा…

    कामना है कि आप चहुँओर गजल ही सुनें.

    अजित गुप्ता का कोना ने कहा…

    आजकल गजल ज्‍यादा सुनाई दे रही दिखती है?

    टिप्पणी पोस्ट करें

     
    Copyright © 2009. स्लॉग ओवर All Rights Reserved. | Post RSS | Comments RSS | Design maintain by: Humour Shoppe